Lockdown : कांग्रेस के प्रयासों को सहयोग नहीं देना चाहती बिहार सरकार- मदन मोहन झा

पटना (जागता हिंदुस्तान) लॉक डाउन के कारण विभिन्न राज्य समय बिहार पर बसे मजदूरों की घर वापसी को लेकर कांग्रेस द्वारा वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से एक अति महत्वपूर्ण बैठक आहुत की गई। बैठक में अखिल भारतीय कांगे्रस कमिटी के महासचिव के सी वेणुगोपाल, बिहार एवं दिल्ली प्रभारी शक्तिसिंह गोहिल, गुजरात प्रभारी राजीव सातव एवं सभी प्रदेश अध्यक्ष एवं प्रभारी शामिल हुए।

बैठक में शामिल सभी नेता एंव नेत्री ने कोरोना वायरस से बचाव, लाॅकडाउन में फंसे लोगों की सहायता और स्वाथ्य विभाग एवं केन्द्र सरकार के रवैये पर अपने-अपने विचार रखें।

इस अवर पर बिहार प्रदेश कांगे्रस कमिटी के अध्यक्ष डाॅ. मदन मोहन झा ने बिहार का पक्ष रखते हुए कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण हमारे सामनें दो मुख्य चुनौतियाँ हैं, एक – शारीरिक दूरी बनाये रखना, जिससे हम, हमारे कार्यकर्ता एवं जनता स्वस्थ रह सके और दूसरा- पीड़ितों की सेवा।

उन्होंने कहा कि बिहार के लिये यह चुनौती और भी गंभीर है क्योंकि एक तरफ तो लाखों की संख्या में बिहार के प्रवासी मजदूर जो लाॅकडाउन में बाहर फँस गये हैं, उनके खाने-पीने एवं आश्रय के लिये प्रयास करना। बिहार कांग्रेस ने ऐसे पचास हजार लोगों को सीधे रूप से सहायता प्रदान की, जिन्होंने हमारे हेल्प लाइन नम्बर पर संपर्क किया। अब धीरे-धीरे वापस आ रहे हैं। हेल्पलाइन, मेल एवं लिंक के माध्यम से हमलोगो के पास भी ऐसे हजारों लोगो ने संपर्क स्थापित किया, जिसकी सूची बनाकर संबंधित राज्य के हमारे प्रदेश अध्यक्षों को तथा मुख्य मंत्रियों को आग्रह पत्र के साथ भेजा गया।

उन्होंने कहा कि दूसरी ओर बिहार से भी बाहर जानें वाले लोगों में से लगभग दो हजार लोगों ने हमलोगों से संपर्क स्थापित किया। इनमें से कई लोगों को हमारे कार्यकर्ताओं द्वारा सहूलियत देने पर वे स्वयं चले गये। डाॅ. झा ने कहा कि इन मामलों में सबसे बड़ी समस्या सरकार द्वारा अनुमति पत्र प्राप्त करना है। हम लोगो के बार-बार प्रयास करनें के बावजूद सरकार पास देने में आना-कानी कर रही है। मुख्य सचिव, प्रधान सचिव आपदा एवं जिलाधिकारियों से बात की गई लेकिन ऐसा प्रतीत होता है कि कांग्रेस द्वारा किये जा रहे किसी भी प्रयास को सहायता नहीं देना चाहती है।

बिहार कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि रेल अधिकारियों से बातचीत की गई परंतु बारह सौ पैसेंजर होने के बाद ही रेल गाड़ी बुक किया जा सकता है और इतनें लोग एक साथ किसी एक जिले में नहीं हैं। साथ ही इसकी अनुमति भी बिहार सरकार द्वारा ही मिलेगी।

डॉ. झा ने बताया कि अन्ततः आज सरकार द्वारा एक नोडल अधिकारी नामित किया गया जो बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी के साथ समन्वय स्थापित कर बिहार में फंसे लोगों को बाहर भेजने का प्रयास करेगी। पिछले एक सप्ताह से बिहार कांग्रेस इस दिशा में सक्रिय है। अबतक छब्बीस लोगों को रेल का टिकट दिया गया। असम, उत्तर प्रदेश एवं पंजाब जानें वाले लोगों के लिये एक एक बस ठीक कर लिया गया है। संभवतः आज शाम तक या कल तक प्रशासन की अनुमति मिल जाये फिर उन्हें लेकर बस रवाना होगी।

प्रदेश अध्यक्ष डाॅ. मदन मोहन झा ने शीर्ष नेतृत्व को इस बात से भी अवगत कराया कि बिहार में क्वॉरेंटाइन सेेंटर की स्थिति अच्छी नहीं है तथा आज भी सरकार ने एक तुगलकी फरमान जारी कर कहा है कि राज्य के बाहर से आए श्रमिकों को क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखने के बाद रेल किराया दिया जाएगा, जो कोई व्यक्ति भी इन सेंटरों के व्यवस्था से संतुष्ट नहीं है और इसकी शिकायत कर रहे है उनको किसी ढंग की कोई सुविधा नहीं दी जाएगी।

बिहार कांग्रेस ने कहा कि पहले से ही मीडिया को यहां क्वॉरेंटाइन सेंटर के अंदर जाने पर पाबंदी है, जिससे इन सेंटरों में फैली अव्यवस्था का समाचार बाहर न जा सके। इस बीच पार्टी द्वारा जरूरतमंद लोगों के बीच राशन, खाना, दवाई, मास्क एवं साबुन वितरण का कार्य नियमित रूप से जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *