Lockdown2 : फेक न्यूज़ पर सीएम नीतीश सख्त, कहा- कड़ी कार्रवाई करने की जरूरत

पटना (जागता हिंदुस्तान) मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी जिलों के डीएम, एसपी के साथ कोरोना समेत विभिन्न मुद्दों पर समीक्षा की। संबंधित विभागों के अपर मुख्य सचिव/प्रधान सचिव /सचिव/प्रमण्डलीय आयुक्त/आईजी/डीआईजी भी वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने निर्देश दिया कि कोरोना के साथ अन्य बीमारियों के इलाज की अस्पतालों में समुचित व्यवस्था हो। प्रभावित जिलों में पल्स पोलियो अभियान की तर्ज पर डोर टू डोर स्क्रीनिंग अभियान में तेजी लायें। पल्स पोलियो अभियान की तरह ही एक-एक परिवार को इसमें कवर करें। राशन कार्डधारियों को समय पर राशन मिले, इस पर ध्यान देने की जरूरत है। अगर कहीं से राशन कार्डधारियों को सड़ा चावल या खाद्यान्न की निर्धारित मात्रा से कम खाद्यान्न मिलने की शिकायतें आती है तो संबंधित लोगों पर कड़ी कार्रवाई करें। कालाबाजारी की शिकायत मिलने पर कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित की जाय।

मुख्यमंत्री ने कहा कि रिजेक्ट, त्रुटिपूर्ण एवं पेंडिंग राशन कार्ड पर पुनर्विचार कर जांचोपरांत राशन कार्ड जारी करने का निर्देश पहले ही दिया जा चुका है। वैसे हाशिये पर रहने वाले परिवार जिनको फिर भी राशन कार्ड नहीं मिल सका है, उन्हें सतत् जीविकापोर्जन योजना के तहत सहायता पहुंचायी जायेगी। आपदा राहत केन्द्रों पर ड्राई मिल्क पाउडर उपलब्ध कराने का निर्देश।

इसके साथ ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुजफ्फरपुर में एईएस से बचाव हेतु पूरी तैयारी एवं जागरूकता अभियान चलाने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि मुजफ्फरपुर जिले में 302 नये आंगनबाड़ी केन्द्र खोले गये हैं। समाज कल्याण विभाग उन आंगनबाड़ी केन्द्रों के लिये आवंटन एवं अन्य व्यवस्था सुनिश्चित करे। जेई के वैक्सिनेशन की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की जाय। पशुओं की बीमारी के रोकथाम के लिये पशुपालन विभाग समुचित कार्रवाई करे। वर्ग 9 एवं 10 के लिये ऑनलाइन पढ़ाई शुरू कराने का निर्देश। मुख्यमंत्री के निर्देश पर शिक्षा विभाग ने डीडी बिहार पर 20 अप्रैल से ऑनलाइन पढ़ाई के लिये एक घंटे का स्लाॅट बुक कराया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार उपलब्ध कराने हेतु किये जा रहे कार्यों का अनुश्रवण सुनिश्चित किया जाय। इसमें सोशल डिस्टेंसिंग का भी ध्यान रखा जाय। गेहूं की अधिप्राप्ति में किसानों को किसी प्रकार की कठिनाई न हो। लाॅकडाउन के प्रति हमारी पूरी प्रतिबद्धता है। लाॅकडाउन का पालन करने से आप न सिर्फ कोरोना से सुरक्षित हैं बल्कि अन्य बीमारियों से भी सुरक्षित हैं। लाॅकडाउन के प्रति लोगों को जागरूक किया जाना चाहिये। अफवाहों की रोकथाम की व्यवस्था सुनिश्चित की जाय। फेक न्यूज पर कड़ी कार्रवाई करने की जरूरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *