Politics

‘लालू की रसोई’ को जदयू ने बताया छलावा, बोलीं अंजुम आरा- विपक्ष कर रहा राजनीतिक पोषण

पटना (जागता हिंदुस्तान) कोरोनावायरस को लेकर जारी लॉक डाउन के कारण विभिन्न राज्य में फंसे बिहारी श्रमिकों की घर वापसी और उनके लिए सरकारी व्यवस्थाओं को लेकर सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच लगातार आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। इसी क्रम में बिहार के सत्तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड ने राजद और नेता प्रतिपक्ष जैसी यादव पर एक बार फिर बड़ा हमला किया है।

जदयू के प्रदेश प्रवक्ता अंजुम आरा ने कहा है कि विपक्ष को जब भी मौका मिला है, उसने अपना ही पोषण किया है, चाहे वह सत्ता में रहें हों या विपक्ष में। इस आपदा में भी उनका पूरा प्रयास अपना ही पोषण करना है।

इसके साथ ही उन्होंने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि एक तरफ जहां नेता प्रतिपक्ष 50 दिन स्वयं प्रवासी बन लगातार झूठा एवं भ्रामक बयान देकर बिहार की जनता का मनोबल तथा उनकी इच्छा शक्ति को तोड़ने एवं गुमराह करने की पूरी कोशिश करते रहें। वहीं दूसरी तरफ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कोरोना संक्रमण की चुनौतियों को स्वीकार कर कुशल एवं व्यवस्थित प्रबंधन करते हुए अपने प्रवासी छात्रों एवं श्रमिकों को वापस लाने के लिए केंद्र से बेहतर समन्वय स्थापित कर विशेष ट्रेनों एवं बसों के माध्यम से 6 लाख 10 हजार इच्छुक प्रवासियों को लाने में सफल रहे हैं। अंजुम आरा ने कहा कि आज हमारे प्रवासी रेल एवं अन्य वाहनों से सीधे अपने जिला के क्वरंटाईन सेंटर जाकर क्वरंटाईन हो रहें हैं, जहां पर उनके रहने, खाने एवं सोने साथ ही साथ उनकी सहूलियतों का उत्तम प्रबंध किया गया है।

जदयू प्रवक्ता ने कहा कि रमजान का पवित्र महीना है, रोजेदार प्रवासियों के लिए भी क्वरंटाईन सेंटर में नमाज, ईफतार एवं सेहरी का प्रबंध है। क्वरंटाईन अवधि पूरी होने के बाद श्रमिक खुशी खुशी अपने घर जा रहे हैं तथा उन्हें रोजगार भी मिल रहा है।

इसके साथ ही उन्होंने राजद द्वारा प्रवासी श्रमिकों को भोजन कराने के लिए शुरू किए गए ‘लालू की रसोई’ पर निशाना साधते हुए कहा कि विपक्ष की रसोई अपने राजनीतिक पोषण के लिए एवं बिहार की जनता के साथ छलावा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *