एडवांटेज डायलॉग में बोले महेश गोयल, बिहार के MSME ग्राहकों को दिया 844 करोड़ का लोन

पटना (जागता हिंदुस्तान) भारतीय स्टेट बैंक के पटना मंडल के मुख्य महाप्रबंधक महेश गोयल ने कहा है कि लॉकडाउन के चलते पटरी से उतरी अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए अब तक बिहार एवं झारखंड में 24,800 एसएमई ग्राहकों को ₹ 844 करोड़ से अधिक का लोन दिया है, जबकि पूरे देश में 4 लाख से अधिक ग्राहकों को ₹19,336 करोड़ का लोन दिया गया है। लॉकडाउन के दौरान ग्राहक सेवा केन्द्र सुबह आठ बजे से शाम आठ बजे तक सप्ताह के सभी दिनों में काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि विडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से अपने सभी महाप्रबंधकों, उप महाप्रबंधकों, क्षेत्रीय प्रबंधकों आदि से लगातार संपर्क में रहे और उन्हें आवश्यक दिशा निर्देश देते हुए आवश्यक कार्यों का निष्पादन करवाते रहे। उन्होंने कहा कि इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मेरी टीम काम कर रही थी। उन्होंने अच्छा काम करने के लिए अपनी टीम के सभी सदस्यों को धन्यवाद दिया। इस दौरान डिजिटल योनो एप (यू ओन्ली नीड वन) का ग्राहकों ने काफी इस्तेमाल किया। इस दौरान एसबीआई ने ग्रामीण क्षेत्रों में भी काफी काम किया है। डायरेक्ट ट्रांसफर मामले पर भारत सरकार एवं एसबीआई के ग्लोबल आई.टी. सेन्टर ने काफी सुरक्षित तरीके से काम किया। प्रतिदिन बैंक से 5 से 6 लाख लोग जमा और निकासी करते रहे। उन्होंने कहा कि इस दौरान ऋण की मांग में दबाव था एवं ऋण संबंधी ग्राहक कम थे। बिहार में डिजिटल का उपयोग अच्छा रहा।

उन्होंने कहा कि योनो सुरक्षित है। योनो से ग्राहकों द्वारा बहुत सारे बैंकिंग काम किये जाते हैं। योनो शॉपिंग, योनो कैश की भी सुविधा उपलब्ध है। आने वाला समय डिजिटल बैंकिंग का होगा।

वे रविवार (28 जून) को डिजिटल प्लेटफार्म जूम पर एडवांटेज डायलॉग के 20वें एपिसोड (दिन के 12.00 बजे से 1.00 बजे तक) में कोविड 19 के बाद बैंक किस प्रकार समृद्धि के रास्ते दिखा सकते हैं (हाउ बैंक्स कैन शो पाथ टू प्रोस्पैरिटी आफटर कोविड 19) विषय पर बोल रहे थें।

मोडरेटर एन.डी.टी.वी. की मीडिया एक्सपर्ट नगमा सहर से बातचीत मे उन्होंने कहा कि स्टेट बैंक के किसी भी ग्राहक को अगर कहीं से फोन कर खाता नम्बर और पासवर्ड आदि की मांग की जाती है तो उसे अपना खाता नम्बर और पासवर्ड नहीं देना चाहिए क्योंकि बैंक कर्मी फोन करके ये जानकारी नहीं मांगता क्योंकि जरूरत की सारी जानकारी उनके पास पहले से ही उपलब्ध होते हैं। उन्होंने कहा कि अभी वक्त कठिनाई का है, लोग लोन का उपयोग करें। बैंक की ब्याज दर काफी घट गई है इसलिए म्युचल फंड, इन्शुरेंस आदि में निवेश करें। एसएमई एवं रिटेल ग्राहकों को ब्याज दर में छह महीनें की तत्काल छूट की सुविधा दी गई है। रिजर्व बैंक मार्च से लेकर अगस्त 2020 तक नये एनपीए घोषित नहीं करेगा। एसएमई के परिभाषा में परिवर्तन से 90 प्रतिशत व्यवसायिक ऋण एस.एम.ई. श्रेणी में वर्गीकृत हो चुके हैं। अर्थव्यवस्था में बैंक की भूमिका काफी महत्वपूर्ण होती है। इसमें डिजिटल टेक्नालाजी का रोल अहम होगा। घर मे बैठकर लोग इसका इस्तेमाल कर सकेंगे। कृषकों की सुविधा के लिए एस.बी.आई. योनो कृषि एप भी लॉंच किया गया है। एस.बी.आई. का क्विक एप नया है जिससे खाता में बैलेंस की जानकारी मिलती है।

उन्होंने कहा कि वे बिहार इंडस्ट्रीज एसोसिएशन तथा बिहार चेम्बर आॅफ काॅमर्स से ई.एम.ई. पर वर्चुअल बात कर चुके हैं। वर्क फ्राॅम होम अब वर्क फ्राॅम एनी व्हेयर हो जायेगा। देश में स्टेट बैंक के 44 करोड़ ग्राहक हैं। काम कभी लंबित नहीं रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि वह मीटिंग के बाद भी काम करते हैं तथा कभी-कभी सुबह में भी काम निबटाते हैं। कर्म ही धर्म है। काम का आनंद लेने से सेहत अच्छी रहेगी। ई.एम.आई. स्थगित किये जाने के रिजर्व बैंक के फैसले पर उन्होंने कहा कि हमारे बैंक के 90 प्रतिशत ग्राहकों ने समय पर ई.एम.आई. का भुगतान किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *