पैक्स प्रबंधक संघ ने सहकारिता मंत्री को दिलाई याद, कहा- लॉकडॉन खत्म, अब कीजिए सकारात्मक पहल

पटना (जागता हिंदुस्तान) पैक्स प्रबंधकों को सरकारी कर्मी का दर्जा देने की मांग को लेकर बिहार पैक्स प्रबंधक संघ लगातार संघर्ष करते हुए सरकार से मदद की गुहार लगा रहा है। इसी क्रम में एक बात है बिहार पैक्स प्रबंधक संघ के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार गुप्ता ने सहकारिता मंत्री राणा रणधीर को पत्र लिखकर उन्हें पैक्स प्रबंधकों के समर्थन में सकारात्मक पहल करने के आश्वासन की याद दिलाई है।

अजय गुप्ता ने अपने पत्र में दोहराया है कि राज्य के 8463 पैक्सों मे दशकों से प्रबंधक कार्यरत हैं, जो पैक्स में सरकार द्वारा संचालित सभी योजनाओं से किसानों को लाभांन्वित करते हैं।

उन्होंने एक बार फिर बताया कि अन्य राज्यों यथा उतराखंड, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरियाण, मध्य प्रदेश, उतर प्रदेश, राजस्थान, छतीसगढ़ इत्यादि राज्यों में दशकों से पैक्स प्रबंधकों हेतु सरकार द्वारा सेवा-शर्त लागू है, जो सरकार द्वारा दी जा रही सुविधाओं से लाभांन्वित होते हैं एंव इन राज्यों के पैक्स भी वृहत पैमाने पर विकसित है, जबकि बिहार राज्य के पैक्स प्रबंधक अध्यावधि तक इन सुविधाओं से वंचित हैं। गुप्ता ने कहा कि अन्य राज्यों के पैक्स प्रबंधकों हेतु राज्य सरकारों द्वारा लागू सेवा-शर्त की विस्तृत जानकारी संघ द्वारा पहले ही दिया जा चुका है

पैक्स प्रबंधक संघ के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि आपका (सहकारिता मंत्री) ध्यान आकृष्ट कराना है कि मार्च 2020 में आपके द्वारा पैक्स प्रबंधकों को सरकारी कर्मी के दर्जा हेतु वार्ता के क्रम मे एंव मिडिया के माध्यम से भी पैक्स प्रबंधकों के हित मे सकारात्मक निर्णय लेने हेतु आशवस्त किया गया था, किंतु कोरोना (COVID-19) वैश्विक महामारी के कारण स्थगित रहा। इसलिये अनुरोध है कि लॉकडाउन खत्म हो गया है, लिहाज पैक्स प्रबंधकों हेतु सकारात्मक पहल किया जाए, जिससे 8463 प्रबंधकों को सरकारी कर्मी का दर्जा मिले एंव प्रबंधकों को भूखमरी का सामना नही करना पड़े ।

पत्र की प्रति मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समेत बिहार के मुख्य सचिव, प्रधान सचिव सहकारिता विभाग निबंधक सहयोग समितियाँ बिहार को भी प्रेषित की गई हैं।

बता दें कि पैक्स प्रबंधकों को सरकारी करने का दर्जा देने के लिए ब्लॉक लोन से 1 मार्च के शुरुआत में पैक्स प्रबंधक संघ ने सरकार के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन किया। प्रबंधन ने अपनी मांगों को लेकर गर्दनीबाग स्थित धरना स्थल पर अर्धनग्न होकर प्रदर्शन किया वहीं विधानसभा के बाहर आत्मदाह करने तक की चेतावनी दे डाली। हालांकि कोरोनावायरस को लेकर संघ द्वारा अपने सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिए गए लेकिन पत्र के माध्यम से सरकार को लगातार गुहार लगा रहे हैं। अपनी मांगों को लेकर पैक्स प्रबंधक संघ बिहार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को दो-दो बार पत्र लिखा है। खाना किस मामले को लेकर सरकार की ओर से अब तक कोई भी सकारात्मक जवाब नहीं मिला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *